आश्विन नवरात्री क्यों मनाई जाती हैं ?

आश्विन नवरात्री क्यों मनाई जाती हैं ?

आश्विन नवरात्री क्यों मनाई जाती हैं ?


नमस्ते मित्रों ,
श्रीविद्या पीठम में आपका स्वागत हैं ।

दुनियाभर में आश्विन नवरात्री बड़े धूमधाम से मनाई जाती हैं । अनेको लोग इस नवरात्री में नाना प्रकार के मंत्र वगेरा करते हैं ।
परन्तु इस नवरात्री का असली कार्य क्या हैं ? क्यों मनाई जाती हैं ? इसकी मूल जानकारी नहीं दी जाती ।

नव असुरों को मारने के लिए नवदुर्गा आई और उनको लेकर नवरात्री मनाई जाती हैं ।

नव असुर कौनसे ?
दुर्गा सप्तशती वाले असुर नहीं । बल्कि हमारे आपके घर में ही ये असुर होते हैं । घर में जो हम लड़की का फर्नीचर , स्टील – लोहे की चीजें , हमारे कपड़े , पड़दे , फर्श , काच आदि वस्तुओं में एक निगेटिव एनर्जी फोर्स होती हैं ।
जैसे कि , घरका फर्नीचर हैं । हम कितनी बार उसमें बैठते हैं , घर में आने वालों लोगों का उसको स्पर्श होता हैं ।
आप अपने कपड़ों को पहनकर काफी जगह घूमते हैं तो हर जगह की थोड़ी थोड़ी ऊर्जा आपके पास आती ही हैं ।
काच भी , निगेटिव ऊर्जा की शक्ति अपने अंदर रखने वाली महत्वपूर्ण वस्तु हैं ।

साल भर में इन सभी वस्तुओं में काफी ऊर्जा इकठ्ठा हो जाती हैं , जिसका रिफ्लेक्शन आसपास के व्यक्तियों पर होता हैं ।यही आसुरी शक्तियाँ होती हैं ।इन्ही आसुरी शक्तियों को मारने के लिए नवरात्री मनाई जाती हैं ।

अगर वास्तविक देखे तो , जो कलश पूजन करते हैं और जवारे लगाते हैं । वो बस श्रद्धा के लिए हैं । वो प्रतीक के रूप में हैं ।
नवरात्री के एक एक दिन जैसे जैसे निगेटिव एनर्जी साफ हो जाती हैं तो उसे महसूस कैसे किया जाए ? इसलिए यह जवारे लगाने का प्रयोग शुरू हुआ ।

जैसे नवरात्री को मनुष्य लोक में मनाया जाता हैं ।
वैसे ही देवलोक में भी नवरात्री मनाई जाती हैं , बस पद्धती अलग होती हैं । देवलोक में वहां रहने वाली सभी महिलाओं का पूजन किया जाता हैं ।
देवलोक में नवरात्री सिर्फ पाँच दिन की होती हैं ।
श्रीललिता पंचमी हो यह नवरात्री खत्म हो जाती हैं ।

इस तरह से आश्विन मास दुर्गा नवरात्री की महत्वपूर्ण जानकारी हैं ।

( अगर किसी भी व्यक्ति को श्रीविद्या पीठम से साधना करनी हैं , तो हमारे कोर्सेस के लिंक को भेट दे । )

SriVidya Pitham
Contact : 09860395985 Whatsapp
Blog : https://srividyapitham.com
Email ID : sripitham@gmail.com

Share

Written by:

181 Posts

View All Posts
Follow Me :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 15 =

error: Content is protected !!
× How can I help you?