श्री धूमावती नवरात्री || तृतीय देवी : भुपेश्वरी देवी

 श्री धूमावती नवरात्री ll तृतीय देवी : भुपेश्वरी देवी 

ॐ श्रीस्वामी समर्थ ॐ
नमस्ते मित्रों ,
श्रीविद्या पीठम में आप सभी का स्वागत हैं ।
Article publish by Blog : https://srividyapitham.com

🌿 तृतीय दिवस : भुपेश्वरी देवी

नाम थोड़ा अलग सा हैं ।
कौन हैं भुपेश्वरी ? आप में से कितने लोग धूमावती का नाम रटते रहते हैं और न जाने यहां कितने श्रीविद्या की दीक्षा लिए बैठे हैं ।
*कभी गहराई तक जाकर भुपेश्वरी देवी का अभ्यास किया हैं ?*
*यह धूमावती के अंडर कैसे कार्य करती हैं ?*
*भुपेश्वरी देवी और भूकंप का संबध क्या हैं ?*

*भूमि में जमीन का संखलन होता हैं , तब प्रेशर नीचे से ऊपर आता हैं ।* *ऊपर से नीचे प्रेशर नहीं जाता । यहाँ सोचने की बात हैं की जमीन के अंदर बहुत लेयर्स और अलग अलग परते होती हैं ।* *भूमि के बड़े हिस्से को दुभाजित करके भूकंप जैसी अवस्था निर्माण करने के लिए , कितने फोर्स की शक्ति चाहिए ?*
*वही शक्ति का बल , जो भूमि के अंदर छुपा हुआ रहता हैं , वही भुपेश्वरी देवी हैं ।*

*यह देवी सिर्फ भूकंप की ऊर्जा का प्रतीक ही नहीं , बल्कि ज्वालामुखी निर्माण करने वाली शक्ति भी हैं ।*
*यहाँ विचार करने की क्षमता भी स्तब्ध हो जाती हैं ।*
*कितने फोर्स से कई सेकड़ो किलोमीटर अंदर पिघली हुई मिट्टी , जमीन के ऊपर आती हैं ।*
*जितनी सूर्य की ऊर्जा हैं उतनी ही ज्वालामुखी की ऊर्जा हैं ।
यह जो फोर्स हैं , वही भुपेश्वरी देवी हैं ।*

*भुपेश्वरी देवी का अस्त्र भी बहुत रोचक हैं ।*
*एक सीधी लाठी को लेकर उसके ऊपरी भाग को तारों का वाईडींग बनाया जाए और उसमें इलेक्ट्रिसिटी छोड़ दी जाए तो उसे किस कार्य के लिए डाइवर्ट किया जा सकता हैं ।* *उस टाइप का अस्त्र हैं ।*

कभी आपने सोचा हैं क्या ?

की इतने सारे देवी देवता इस ब्रम्हांड में विचरण करते हैं । न जाने कितनों के पास छोटे बड़े लेकर कितने सारे अस्त्र शस्त्र होंगे ।* *जब किसी अस्त्र शस्त्र की ऊर्जा एक समय बाद खत्म हो जाती हैं , तब उसे नष्ट करने के लिए कोई अग्नि तो लगती होगी ना ।*
*सामान्य अग्नि तो ऐसे अस्त्रों को जला नहीं सकती ।*
*ऐसे अस्त्र शस्त्र को भस्म करने के लिए उनके अग्नि अलग अलग टाइप के बने हुए रहते हैं ।*

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखे तो आजके आधुनिक युग में किसी भी वस्तु को रिसाइकिल करने के लिए , जो बैक्टेरिया निकाला जाता हैं ।* *उससे सिमिलर प्रोसेस ही समझ सकते हैं ।

यह महाविद्याओं का विज्ञान बहुत गहरा हैं । अभ्यासपूर्ण हैं ।

( श्रीविद्या पीठम द्वारा जो भी सही दिशा से साधना करने के इच्छुक हैं , वह नीचे दिए लिंक पर जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं । )

SriVidya Pitham
Contact : 09860395985 Whatsapp
Blog : https://srividyapitham.com
Email ID : sripitham@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.