श्रीयंत्र अंतर्गत चतुर्दशार Explanation

श्रीयंत्र अंतर्गत चतुर्दशार Explanation

श्रीविद्या ~ श्रीयंत्र … प्राथमिक ज्ञान ~ भाग ६

नमस्ते मित्रों , श्रीविद्या पीठम में स्वागत हैं ।

This Article Publish by SriVidya Pitham . 

श्रीविद्या साधनाक्रम में अंतिम स्तर पर नवावर्ण पूजन संपन्न होता हैं । नवावर्ण अर्थात नवयोनियों का पूजन । नवयोनी अर्थात श्रीयंत्र । श्रीविद्या साधना हेतु और श्रीविद्या ज्ञान हेतु हमसे संपर्क कर सकते हैं ।

🪷 चतुर्दशार आवरण Explanation ( १४ त्रिकोण )

श्रीविद्या पंचदशी दीक्षा पद्धति में चतुर्दशार यह चतुर्थ आवरण हैं । १४ त्रिकोण से बना यह आवरण हैं । यहाँ १४ प्रकार की सौभाग्य देने वाली देवियां विराजमान रहती हैं । उनके नाम आगे की तस्वीर में दी गई हैं । इसे ” सर्वसौभाग्यदायक चक्र ” कहते हैं । इस आवरण की चक्रेश्वरी देवी – त्रिपुर वासिनी देवी । ” संप्रदाय योगिनी ” इस चक्र की योगिनी देवी हैं । श्रीविद्या पद्धति में इन हर एक देवी का गुप्त ज्ञान हैं । हर देवी के अलग अलग ग्रंथ हैं और उनकी विद्या भी हैं । 

 


 


 


 

श्रीविद्या विषयक अधिक जानकारी हेतु हमारे Online Courses Join कर सकते हैं ।

1. https://srividyapitham.com/sri-vidya-essentials/

2. https://srividyapitham.com/advance-srividya-course/

धन्यवाद ।

SriVidya Pitham ~ Contact : 9860395985

 

Share

Written by:

210 Posts

View All Posts
Follow Me :
error: Content is protected !!
× How can I help you?