तिब्बतियन अस्त्र : ध्रुशेश

तिब्बतियन अस्त्र : ध्रुशेश

  • तिब्बतियन अस्त्र : ध्रुशेश


नमस्तेस्तु मित्रों ,श्रीविद्या पीठम में आपका स्वागत हैं ।
Article Publish by ©srividyapitham ( Nivrutti_Ubale. )

श्रीविद्या पीठम द्वारा हम नए विषय नए ज्ञान और नया संशोधन लेकर आपके सामने आते हैं । जिन विषयों पर बाकी जगहों पर यह संशोधन आपको नहीं मिलेंगा ।

इस लेख में हम एक तिब्बती अस्त्र के विषय पर ज्ञान अर्जित करेंगे ।
जिसका नाम ” ध्रुशेश ” हैं ।
इस ज्ञान के लिए हम तिब्बती लामा तंत्र के महायान की प्रमुख देवी मँजूश्री को प्रणाम करते हैं । देवी मँजूश्री के बिना इतना गहन ज्ञान हमारे तक पहुँचता ही नहीं ।

ध्रुशेश शब्द की व्याख्या क्या हैं ?

ध्रु – धार का तत्व अथवा तीव्र ऊर्जा , जैसे किसी तलावर धार होती हैं अथवा चाकू की धार होती हैं । धार खुद एक बड़ी एनर्जी हैं और किसी भी अस्त्र शस्त्र को बिना धार के कोई महत्व नहीं होता ।
शेश – अस्त्र इस शब्द का बुद्धिस्ट तंत्र का नाम कह सकते हैं ।

ध्रुशेश अस्त्र क्या हैं ?

इस अस्त्र को समझने के लिए हमने उसे तीन भाग में बाट दिया हैं । तीन अलग अलग हिस्सों को जोड़कर इस अस्त्र को बनाया हैं । आप इसके लिए नीचे का अस्त्र की आकृति देखिए । ध्रुशेश अस्त्र होता कैसे हैं ।

1. अस्त्र के बीच वाला हिस्सा आप देखिए । यह हिस्सा ऊपर के चार कोनों के एनर्जी को अस्त्र से जोड़ता हैं । इस बीच वाले हिस्से में वायु का तत्व जोड़ा हुआ हैं । जब आप भाला फेंकते हैं , भाले में वायु की गति का तत्व होता हैं । वायु तत्व भाले में बल पैदा करता हैं । वैसे ही ध्रुशेश के बीच वाला हिस्सा इस अस्त्र में गति का बल देने का कार्य करता हैं । यह अस्त्र भाले जैसा फेंका जाता हैं ।
इस बीच वाले हिस्से में लामाओं में प्रार्थना करने की जो घण्टियाँ मंदिर अथवा बुद्धिस्ट मोनेस्ट्रियों के बहार लगी हुई रहती हैं , वो एनर्जी होती हैं । वह घण्टियाँ बहुत मोटी लंबी होती हैं । उनपर दिव्य मंत्रो को लिखा हुआ रहता हैं और उस मंत्रो को हाथ लगाकर हमें वो घँटी घुमानी होती हैं । वह एनर्जी का फोर्स इस अस्त्र के मध्य जोड़ा गया हैं ।

2. ध्रुशेश अस्त्र के ऊपर चार कोनों वाला जो त्रिशूल टाईप का आपको दिखता हैं , इसे माघधान कहा जाता हैं ।
माघधान अर्थात अस्त्र की धार को पीछे से जो सीक्रेट बल दिया जाता हैं , वह तत्व को कहते हैं । यह चार कोन चार महाभूत होते हैं ।
जब आगे की अस्त्र की धार का बल कभी कम पड़ जाए तो उसे इस गुप्त चार तत्वों से बल देकर अस्त्र की धार को संतुलित किया जाता हैं ।

3. ध्रुशेश अस्त्र की बनावट चंद्र की तरह होती हैं । क्योंकि यह अस्त्र का उपयोग आसमान से जो तारा टूटता हैं , उसका चूर चूर करने के लिए हैं । अगर कोई तारा टूटने पर भूमि पर गिरता हैं , तो भूमि का बड़ा हिस्सा तबाह हो सकता हैं । तारे की ताकद को चंद्र का प्रकाश ही काट सकता हैं ।

यह सारा वैज्ञानिक रहस्य हैं ।
इस ध्रुशेश अस्त्र का उपयोग तांत्रिक मार्ग से किया जाता हैं । प्रयोग से पहले काफी घंटो तक दही में इस अस्त्र को डुबोकर रखा जाता हैं ।

श्रीविद्या तथा महाविद्याओं के अधिक जानकारी तथा गुप्त रहस्यों के अभ्यास के लिए हमारे Online Courses को Join हो सकते हैं ।

Article Publish by ©srividyapitham ( Nivrutti_Ubale. )

Share

Written by:

181 Posts

View All Posts
Follow Me :

2 thoughts on “तिब्बतियन अस्त्र : ध्रुशेश

  1. सुंदर ज्ञान अति सुंदर जय हो प्रभु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 1 =

error: Content is protected !!
× How can I help you?